love-in

मैं मज़हब के खिलाफ हूँ … … मेहजबीन के नहीं इश्क़ के चट्टान पे भी मुझ को आज़मा ले… … खूबी तो दर्द से भी उभर सकते…… Read more “love-in”