khatta mittha in hindi Reply

humor poems in hindi (from April 29, 2012) 

..तेरी बर्बादी तेरी सर्बनाश होगी
ऐ सनम तुझे, नसीब घास होगी
… …तू जो भड़कती हे मेरे ऊपर
मैं क्या सो जाऊं जाके छत के ऊपर
… तेरा यूँ मुझ से रोज़ गिला करना
उमीद तो आती हे पर जाती ठिकाना
… … मुझे तू और अब न सता
खोया है मेरा ठिकाना और पता

… … जानु मेरी जान
मैं दे नहीं सकता ज्ञान
चाहे दुनिआ जाये भाड़ में
… … ..हो जाये सर्बनाश
मैं रहता नहीं परेशान

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s